santali story

Santali Story सांताल सॉओता रे कुली

Santali story Read in santal language कला आर कुली द मानमी सिरजोन रिन बार पाहाटा काना किन । मीदटांग एम् भेगेंद कीना हानिटांग रेयाग थिति बांग ताहेना   । अनाते सांताल सऔतारेदो कुलिया मानदो अकाटाग रेहौ बाए हुड़िंया   ।कला हपन जाहाँरे मेनाग कोआ कुली हपन हौ अण्डेदो मेनाको गेया । काम काज करे अला कामिहौ कला हपना ची कुली हपना कोते दो बाए एहब आकाना ।

Santali story Santal Saouta Re Kuli

santali story
santali story

तबे अक्तो सॉओ तीनग गान कामी द कुली हपन सुमुंग आर तीनग गान कामी द कला हपन सुमुंग आकाना । अनाह पाले घारज लालाओना सुगुन लागिद । हलमो गठन भेगेद सिरजोनिया हैं ओकाटा बाए बाखरा आकाआ आर अलाग भीतर खन एहब काते बाद बैहाल टांडी टिकर जोतोआग रे कला कुली गल गपल ते आबोआ कामी तराओ आ  । आपात  ऐंगात सामांग रेहों कला गिदार कुली गिदार बानार मान मीद गेया  ।

Girl’s and also Boy’s Fauilt( माइया गुनाह आर बाबुया गुनाह) :-

माइया गुनाह आर बाबुया गुनाह बानार बाराबारी गेया । माइया गुनाह लागिद बहग तिरुब लेकान चलन मीद एतोहब खन सानत्ताल सऔतारे बानुआ   । माइया कान तुलुज आपात तेड कला आपात ठेन हक़ लेकाते तिये आताँग दालेया काना  सऔतारे  । चेदहों कए बाए  पालाओआ सऔतारेया लेग लेखाते बापला रेयांग जाहागे गोनों पोन एम् पालाओ आया कला आपात ।गुनाह ची अजा करे अकाटाहो बाय ढेरोगोआ ची अकाटाहो बाय कमोग आ ।कला हपन गुनाह रे आपात जाहालेकाते क्लामे उदूगाये जतोआ एम् लागिद , आंकागे कुली हपन बीदाल आपात रास्का रासकी गे अडोको आ गुन्हा बापलारे बदलकाग लागिद ।

तीनांग गान कामिदो कला हल आर तीनांग गान दो कुली हपन सुमुंग काना । सीयुग कामी , जाहेर दालोब करे कुली हपन आडी जयगारे बाको गानोआ । नौआ क इदिकाते पुरुधूल हलकों आडी लेकान काथा को मेना  । कुली हपन सीयू खाने सॉओता अना नेल साहाओ आचे बांग कूकलिरे तीनांग गान हालाम को मेना जाहाँ चलन बानूआ मीद सेदाए खन अनकान कामी अकोए कुलीगे कामी खान उनींदो बारना । डाडम टाका एम् पालाओ हाया आर बाए जाती ताला खान आतु कामीरे बाए सेलेद दालेआए II

santali story
santali story

आर तीनांग हल लेकाते : कुली हपन बाद बाईहाल रे नाहेल साब द मानागेया  । चेकाते  कुली दोको लक्समी काना को आर तीनांग हल को मेना कुली हपन दोको किरिंज रानी काना को ।मिड्टाँग राज्य रे रानी सीयुग अचयेद दिसम जाक रेयाग बदनाम काना , कला हपन ना अपमान काना । आर तीनांग हल को मेना  ……. To be continued soon

Above all content is Copy write from Santali Book , so if any one want to Purchase this Book Please contact to us, and also another book is available now.

Direct link to Online Shopping site Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *